Media-Watch-तीसरी-लहर-के-सितम्बर-अक्टूबर-से-शुरू-होने-की-आशंका

MEDIA WATCH @खबरें ज़माने भर कीं 

Sagar Watch@ 05 June 2021

Media-Watch-तीसरी-लहर-के-सितम्बर-अक्टूबर-से-शुरू-होने-की-आशंका

जी न्यूज़
 ने भारत के महामारी विशेषज्ञों के हवाले से अपनी खबर से संकेत दिए हैं कि कोविड-19 की तीसरी लहर अपरिहार्य है, और इसके सितम्बर-अक्टूबर से शुरू होने की आशंका है. इसलिए देश को अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण करना चाहिए। खबर कहती है कि कोविड-19 की दूसरी लहर का अच्छी तरह सामना किया और यह उसी का परिणाम है कि संक्रमण के नए मामले काफी कम हो रहे हैं। खबर में  इस बात पर भी जोर दिया कि तीसरी लहर से निपटने के लिए भी तैयारियां पूरी होनी चाहिए, जिससे युवा आबादी के अधिक प्रभावित होने की आशंका है।

Also Read: तो क्या शर्मा जी होंगे उप्र के नए मुख्यमंत्री ...?

बीबीसी लन्दन  ने उप्र की सियासत पर केन्द्रित अपनी खबर में बताया है कि राजनीतिक जगत में इस बात की भी चर्चा है कि योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के शीर्ष नेताओं को अब ऐसा फैसला समझ में आ रहा है, जिसे अब बदलना और बनाए रखना, दोनों ही स्थितियों में घाटे का सौदा दिख रहा है। दूसरे, पिछले चार साल के दौरान बतौर मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ की जिस तरह की छवि उभर कर सामने आई है, उसके सामने चार साल पहले के उनके कई प्रतिद्वंद्वी काफी पिछड़ चुके हैं

Also Read: नेस्ले कंपनी ने खुद माना मैगी नूडल्स सेहत के लिए ठीक नहीं

दैनिक भास्कर की खबर कहती है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया अब कोवीशील्ड के साथ ही रूस की कोविड वैक्सीन स्पुतनिक ट वैक्सीन भी बनाएगी। सूत्रों के मुताबिक, देश की दवा नियामक प्राधिकरण  ने शुक्रवार को इसकी मंजूरी दे दी। इसके बाद कंपनी वैक्सीन का टेस्ट और एनालिसिस कर सकेगी। अब तक स्पुतनिक-  को भारत में डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज बना रही है। भारत में स्पुतनिक-वी  की 85 करोड़ डोज बनाई जानी हैं। भारत में बनने वाली वैक्सीन दुनिया में कहीं भी बनाई जाने वाली स्पुतनिक-ट का 65ः से 70ः हिस्सा होगा।

द वायर ने केन्द्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) हवाले से अपनी खबर में  बताया है  कि सेवानिवृत्त अधिकारियों का निजी क्षेत्र में नौकरी स्वीकार करना गंभीर कदाचार का मामला है। सीवीसी ने आदेश जारी कर कहा कि केंद्र सरकार के सभी संगठनों को सेवानिवृत्ति के बाद रोजगार देने से पहले सतर्कता विभाग से अनिवार्य रूप से मंजूरी लेनी चाहिए। सीवीसी ने कहा कि यदि किसी सेवानिवृत्त अधिकारी ने एक से अधिक संगठनों में काम किया है, तो उन सभी संगठनों से सतर्कता संबंधी मंजूरी प्राप्त की जानी चाहिए, जहां अधिकारी ने पिछले 10 वर्षों में सेवा दी थी.


Share To:

Sagar Watch

Sagar Watch is the only news portal of Bundelkhand Region, which provide news updates in English & Hindi language. Rajesh Shrivastava, the Journalist, is the Chief Editor of this News Portal.

Post A Comment:

0 comments so far,add yours