Strict-Action-बेतरतीब-काम-करने-पर-टाटा-कंपनी-को-प्रशासन-कर-सकता-है-'टाटा'

Strict-Action-बेतरतीब-काम-करने-पर-टाटा-कंपनी-को-प्रशासन-कर-सकता-है-'टाटा'

सागर वॉच
। 
नागरिकों की असुविधा की कीमत पर विकास स्वीकार्य नहीं। शहर में चल रहे निर्माण कार्यों को इस ढंग से किया जाए जिससे नागरिकों को कम-से-कम असुविधा हो। तीन दिन के नोटिस पीरियड में व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं होने पर कठोर कार्रवाई होगी। शहर में नागरिकों को होने वाली अव्यवस्था के खिलाफ कमिश्नर शुक्ला ने टाटा कंपनी सहित नगर निगम एवं स्मार्ट सिटी के द्वारा कराए जा रहे विभिन्न कंपनियों के अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी।

नगर निगम एवं स्मार्ट सिटी के अधिकारियों को कमिश्नर की  सख्त चेतावनी 

Also Read: India Smart City Contest 2020- सागर स्मार्ट सिटी को मिला देश में दूसरा स्थान

इस अवसर पर नगर निगम कमिश्नर आरपी अहिरवार, स्मार्ट सिटी सीईओ श्री राहुल सिंह राजपूत, नगर निगम स्मार्ट सिटी कि अधिकारी इंजीनियर एवं समस्त निर्माण करने वाली एजेंसियों के अधिकारी मौजूद थे।

संभागायुक्त  शुक्ला ने शहर में कराए जा रहे विभिन्न निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए स्पष्ट रूप से निर्देश दिए कि किसी भी विकास कार्य में शहर के नागरिकों को असुविधा नहीं होनी चाहिए और यदि इसकी सूचना मिलती भी है तो तत्काल वैधानिक कार्रवाई की जाए।

Also Read: समीक्षाओं में प्रगति की मीनारें तन रहीं हैं हकीकत में बदहाल है शहर

3 दिन के नोटिस पीरियड में व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं होने पर होगी कठोर कार्रवाई

उन्होंने संबंधितों को 3 दिन का समय देते हुए कहा कि 3 दिन में संपूर्ण कार्यों की गतिविधियां और कार्य नहीं सुधारा गया तो ना केवल कंपनियों को काली सूची में डाला जाएगा बल्कि उन पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

बैठक में संभागायुक्त ने माना कि निर्माण कार्यों को बिना किसी पूर्व योजना के करने से शहर की जनता को असुविधा हो रही है। निर्माण कार्य से राजघाट की पेयजल सप्लाई की लाइन भी क्षतिग्रस्त होने से शहर में दो-दो दिन में पानी सप्लाई नहीं हो पा रहा है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

 उन्होंने निर्देश दिए कि बरसात के मौसम में स्ट्रीट लाइट को चालू रखा जावे जिससे राहगीरों को आने-जाने में परेशानी का सामना ना करना पड़े। उन्होंने स्पष्ट रूप से निर्देश दिए कि प्रत्येक कार्य  तकनीकी अधिकारियों की मौजूदगी में कराया जाए। कार्यस्थल पर तकनीकी अधिकारी उपस्थित रहे ।

 नागरिकों की असूविधा को लेकर कमिश्नर शुक्ला की टाटा कंपनी को चेतावनी

उन्होंने कहा कि, लाखा बंजारा झील से निकल रही मिट्टी सड़कों पर ना गिरे , इसकी भी सघन मॉनिटरिंग की  जावे और यदि मिट्टी से कोई दुर्घटना होती है इसके लिए कंपनी जिम्मेदार होगी ।

Also Read: अंधों-गूंगों की सरकार ने तालाब के बीच से बिछा दी सीवर लाइन-कांग्रेस

उन्होंने कहा कि लाखा बंजारा झील का कार्य शहर के नागरिकों की भावनाओं से जुड़ा हुआ मुद्दा है इसे शीघ्रता एवं गुणवत्तापूर्ण रूप से पूर्ण किया जाए । इसके अलावा  निर्माण में लगे डम्फर एवं मशीनरी  का उपयोग करते समय ट्रैफिक का ध्यान रखा जाए 

Share To:

Sagar Watch

Sagar Watch is the only news portal of Bundelkhand Region, which provide news updates in English & Hindi language. Rajesh Shrivastava, the Journalist, is the Chief Editor of this News Portal.

Post A Comment:

1 comments so far,Add yours

  1. सागर शहर का दुर्भाग्य ही है कि तीन-तीन कैबिनेट मंत्रियों का गृह जिला होने के बाद भी विकास कार्य बेहद गैर योजनाबद्ध ढंग से होते दिख रहे हैं । अगर माननीयों की नाक के नीचे होते हुए भी विकास कार्यों को अंजाम देने में अधिकारी पर्याप्त चुस्ती नहीं दिखा रहे हैं तो दूर-दराज के क्षेत्रों का क्या हाल हो रहा होगा यह महज सोचने से भी घबराहट होने लगती है ...प्रवीण शर्मा, सागर

    जवाब देंहटाएं