Articles by "sports"
sports लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

CM CUP Sports  Meet-600  से    ज्यादा खिलाडियों ने   सहभागिता की

सागर वॉच/
खेल एवं युवा कल्याण विभाग के अंतर्गत विकासखंड सागर में मुख्यमंत्री कप खेल प्रतियोगिता 1 दिसम्बर को प्रातः 9 बजे से वात्सल्य स्कूल खेल मैदान में किया गया। प्रतियोगिता में एथलेटिक्स, कबड्डी, खो-खो, व्हालीबॉल, फुटबॉल तथा कुश्ती खेलों में 18 वर्ष से कम आयु वर्ग के बालक, बालिका लगभग 600 खिलाड़ियों ने सहभागिता की।

विकासखंड स्तरीय मुख्यमंत्री कप खेल प्रतियोगिता के समापन समारोह श्री वृन्दावन अहिरवार, अध्यक्ष-नगर पालिका निगम,विनोद  प्रजापति, उपाध्यक्ष म.प्र. खेल प्रकोष्ट, एड.श्री वीनू राणा, वरिष्ट समाजसेवी, आनंद विश्वकर्मा अध्यक्ष जिला कुश्ती संघ एवं श्री प्रदीप अबिद्रा, जिला खेल और युवा कल्याण अधिकारी आदि उपस्थित थे।

मंगल सिंह यादव प्रतियोगिता प्रभारी द्वारा सभी अतिथियों का पुष्पगुच्छ से स्वागत किया गया। इसके पश्चात अन्य प्रतियोगिता में सहयोग प्रदान करने वाले प्रशिक्षकों द्वारा भी अतिथियों का स्वागत किया गया। प्रतियोगिता प्रभारी श्री मंगल सिंह यादव द्वारा मुख्यमंत्री कप खेल प्रतियोगिता की संक्षिप्त जानकारी अतिथियों को दी गई।

कार्यक्रम में पधारे अतिथि श्री वीनू राणा द्वारा कहा गया कि खेलों को अपने जीवन में हमेशा रखना चाहिए क्योंकि खेलों से शारीरिक एवं मानसिक विकास होता है। श्री वृन्दावन अहिरवार द्वारा अपने उद्बोधन में विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी एवं हारने वाले खिलाड़ियों को पूर्ण लगन एवं महनत से तैयारी करने हेतु प्रेरित किया। तथा म.प्र. के मुख्यमंत्री की योजनाओं के बारे मे खिलाड़ियो को अवगत कराया।


इसके पश्चात अतिथियों द्वारा विजेता टीम/खिलाड़ियों को पुरस्कार वितरण किये। प्रतियोगिता का परीणाम निम्नानुसार रहा-

  • 1.कबड्डी- बालक वर्ग - 1.विजेता खेल परिसर  2.उपविजेता.गवर्मेन्ट एक्सीलेंश स्कूल
  • 2.कबड्डी- बालिका वर्ग - 1.विजेता केन्द्रीय वि.क्र.3,  2.उपविजेता केन्द्रीय वि.क्र.01
  • 3.व्हालीबॉल-बालक वर्ग - 1.विजेता डी.पी.एस.स्कूल  2.उपविजेता. न्यू ज्ञानोदय स्कूल
  • 4.व्हालीबॉल-बालिका वर्ग - 1.विजेता एम.एल.बी.स्कूल .2.उपविजेता डी.पी.एस. स्कूल
  • 5.खो-खो- बालक वर्ग - 1.विजेता एस.वी.एन. स्कूल 2.उपविजेता आनंद मार्ग स्कूल
  • 6.खो-खो- बालिका वर्ग - 1.विजेता सागर साईन स्कूल 2.उपविजेता उत्कृष्ट विद्यालय
  • 7.फुटबॉल- बालक वर्ग - 1.विजेता के.व्ही.एन. 2.उपविजेता सागर स्पोर्टिंग
  • 8.फुटबॉल - बालिका वर्ग - 1.विजेता एल्कॉन इन्टरेनशनल स्कूल .2.उपविजेता खेल परिसर
  • 9.एथलेटिक्स बालक-
  • 100मी. 1..धु्रव वर्मा  2 अंकित कुलपारिया   .3 गर्ग धानक
  • 200मी. 1....पवन यादव  2.दीपेश गौहर         3शिवराज यादव
  • 400मी. 1.हिमांशु ठाकुर        2.कौशल यादव        3अनुज रैकवार
  • 1000मी. 1सलमान पठान       2.रीतेश यादव          3अर्ष जैन .
  • लॉग जम्प 1.दीपेश प्रसाद        .2हर्षवर्धन             3पुष्पेन्द्र अहिवार
  • हाई जम्प 1.हिमांशु पटेल        2.अरम जैन           3प्रभात कुर्मी
  • शाटपुट 1अजव सिंह ठाकुर    2शिवांश दुबे           3केशव डूमार .
  • जैवलिन 1राधवेन्द्र राजपूत      2अनिरूद्ध             3धनराज यादव

10.एथलेटिक्स बालिका-

  • 100मी. 1..रूकमणी पटेल      2मोहनी पटैल        3दिया ठाकुर
  • 200मी. 1तान्या मकोरिया      2दिया ठाकुर         3.कृष्णा तिवारी
  • 400मी. 1.नेहा धानक         2.खुशबू घोषी         3.रूचि ठाकुर
  • 1000मी. 1.पलक साहू         2.अंकिता दुबे         .3.मान्या पाण्डेय
  • लॉग जम्प 1रजनी रजक        .2.संजना यादव        3.जया चौधरी.हाई जम्प 1.राधिका विश्वकर्मा    2.खुशबू घोषी         3.विनीता अहिरवार.
  • शाटपुट 1कृभावना यादव      2.मानसी पटेल         3.कृष्णा तिवारी
  • जैवलिन 1.सरमीम खान       2उपासना वर्निकी       3कृअलसिया खान

11 कुश्ती बालक-

42कि.ग्रा. 1.क्रिश यादव        .2.कृष्णा यादव        

46कि.ग्रा. 1.मयंक  सोनी       .2संस्कार सोनी       3.अजय सौर

50कि.ग्रा. 1सुमित राय         2.यशवर्धन यादव      3.कृष्ण कुमार

54कि.ग्रा.. 1.अभिषेक यादव  

58कि.ग्रा. 1.रचित बाल्मिकी     2.चक्रधारी यादव     3.मोहित कश्यप
  
63कि.ग्रा. 1.यश यादव         2.दीपेश यादव       3.साहिल मोमिन

69कि.ग्रा. 1.आर्यन यादव       2.......................................3............................

76कि.ग्रा. 1.केतन कश्यप्   2.केशव कुमार डुमार 3...................................
     

12 कुश्ती बालिका-

38कि.ग्रा. 1.कामनी कोरी       2.चॉदनी सौर       3.साक्षी अहिरवार

40कि.ग्रा. 1.कल्याणी          2. सुहानी कलार     3कृकंचन अहिरवार

43कि.ग्रा. 1.अरूणा वासनिक    2.श्रद्धा गुप्ता        3.रानी ठाकुर

46कि.ग्रा.. 1.शैली सोनी         2.वैष्णवी यादव      3.भूमीका गुप्ता

59कि.ग्रा. 1.रूचि जैन 2. नैना बाई गौड़    3...................................

52कि.ग्रा. 1सत्या मौर्य         

56कि.ग्रा. 1..........................................2.......................................3...................................
60कि.ग्रा. 1.जया पटेल         

कार्यक्रम के सफल आयोजन में विभागीय प्रशिक्षक  प्रेमनेती राय, श्रीमती सीमा चक्रवर्ती,   उमेश चंद्र मोर्य,  श्यामलाल पाल,  नफीस खान,भीकम पटेल,एवं अन्य खेल संघ संस्थाओं के प्रशिक्षक  दविन्दर भाटिया, राजेश यादव,  विशाल तोमर, कार्यालयीन कर्मचारी  महेन्द्र सिंह राजपूत,   चंदन मोरे,   रंजीत बैन आदि ने सहयोग किया।

नगर निगम, पुलिस विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग का विशेष सहयोग रहा। प्रतियोगिता प्रभारी श्री मंगल सिंह यादव द्वारा सभी अतिथियों एवं कार्यक्रम को सफल बनाने वाले प्रशिक्षकों एवं सहयोग करने वाले अन्य विभागों के प्रति आभार व्यक्ति किया

State Sports Meet-जुडो प्रतियोगिताएं में भोपाल जबलपुर और ग्वालियर रहे आगे

सागर वॉच/
 66 वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता  के दूसरे दिन जूडों के हुए मैचों में बालिका 17 वर्ष 52 किलोग्राम में.  प्रथम स्थान पलक भोपाल, दूसरा स्थान शिरीन फातिमा जबलपुर रही, बालिका 17 वर्ष 36 किलोग्राम  प्रथम स्थान अमरीन जबलपुर, द्वितीय स्थान परिधि उज्जैन, बालिका 17 वर्ष 40 किलोग्राम में प्रथम स्थान सारिका जबलपुर, द्वितीय कोयल भोपाल, प्राप्त किया।

बालिका 14 वर्ष 23 किलोग्राम में प्रथम स्थान शिवानी ग्वालियर, द्वितीय स्थान सुहानी उज्जैन , 14 वर्ष 27 किलोग्राम वेट में. प्रथम स्थान एंजेल भोपाल, द्वितीय वैष्णवी जबलपुर रही। बालिका 14 में 32 किलोग्राम प्रथम स्थान हंशिका भार्गव ग्वालियर, द्वितीय मधिया इंदौर  प्राप्त किया ।
 
बालक वर्ग जूडो में खेले गए मैचों के परिणामः
बालक 14 वर्ष वजन 25 किलोग्राम में
प्रथम- आनंद ग्वालियर,
द्वितीय -हर्ष कुमावत उज्जैन रहे,

बालक 14 वर्ष वजन 30 किलोग्रामः
प्रथम -सतीश भोपाल
द्वितीय -हर्ष श्रीवास्तव जबलपुर रहे,

बालक 14 वर्ष वजन 35 किलोग्रामः
प्रथम अनुराग सिंह उज्जैन, दितीय अमर यासिर जबलपुर रहे।

17 वर्ष वजन 45 किलोग्राम
प्रथम अपूर्व जबलपुर
द्वितीय अकुल सिंह भोपाल रहे।

बालक 17 वर्ष 50 किलोग्रामः
प्रथम- मोहित कुमार भोपाल
दितीय-अमन शुक्ला रीवा रहे,

बालक 17 वर्ष वजन 55 किलोग्रामः
प्रथम- युवराज ग्वालियर
द्वितीय- मोहित मिश्रा भोपाल रहे।


66 वीं राज्य स्तरीय फुटबॉल प्रतियोगिता की मैचों में सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल में हुए मैचों में सागर ने उज्जैन को 2-0 से हराया , सागर की ओर से दो गोल अरमान ने किए जबकि उज्जैन की ओर से एक गोल रियान ने किया।

इंदौर नर्मदा पुरम के मैच में इंदौर ने नर्मदापुरम को 4-0 से हराया, रीवा-उज्जैन में जीरो-जीरो से बराबर रहा।

जबलपुर-ग्वालियर की मैच में ग्वालियर ने जबलपुर को 3-2 से हरा दिया।
ग्रेट मैन पब्लिक स्कूल के मैदान पर हुए मैचों में भोपाल से शहडोल को 9-0 से हराया।  भोपाल की ओर से शाहिनूर ने चार, नवीन ने दो, हनीफ एवं बिलाल ने एक-एक गोल किए ।

ग्वालियर आदिवासी के मैच में ग्वालियर ने आदिवासी को 6-2 से हराया, सागर-भोपाल के मैच में भोपाल से सागर को 2-0 से हराया. जबकि एक अन्य मैच में इंदौर आदिवासी के मैच में इंदौर ने आदिवासी विकास को 5 एक गोल  से हरा दिया।

 
20 नवंबर के मैच
 ग्रेट मैन इंटरनेशनल स्कूल के मैदान में रीवा-भोपाल का मैच, जबलपुर आदिवासी विकास का मैच, जबलपुर नर्मदापुरम का मैच, सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल के मैदान में उज्जैन-शहडोल का मैच, नर्मदापुरम ग्वालियर का मैच, एवं रीवा शहडोल का मैच खेला जाएगा। जबकि जूडो प्रतियोगिता स्वडिश मिशन विद्यालय के सभागार में होगी।

State Level Sports Meet-प्रतियोगिता में आठ सौ से ज्यादा खिलाडी होंगे शामिल

सागर वॉच/
 
18 से 22 नवंबर तक आयोजित होने वाली 66 वी. राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता की तैयारियों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर श्री दीपक आर्य ने निर्देश दिए कि सागर में 800 से अधिक खिलाड़ी एवं उनके कोच एवं शिक्षक अतिथि के रूप में आ रहे हैं उनकी व्यवस्थाओं के लिए समस्त आवश्यक मूलभूत सुविधाएं की व्यवस्थाएं विभिन्न विभागों के अधिकारियों एवं उनके अधीनस्थ को दिए गए हैं सभी अपने अपने दायित्वों का निर्वहन पूरी ईमानदारी एवं शिद्दत के साथ करें। 

उन्होंने निर्देश दिये कि सर्वप्रथम आवासी स्थलों के समिति सदस्य एवं संयोजक भौतिक सत्यापन करें और प्रमुख रूप से यह देखें कि शौचालय, पेयजल क्या व्यवस्था है। उन्होंने निर्देश दिए कि इसी प्रकार शीत ऋतु को देखते हुए गर्म पानी की व्यवस्था एवं रजाई की व्यवस्था भी की जावे। 

उन्होंने निर्देश दिए कि खेल स्थल पर एवं आवास स्थलों पर डॉक्टर पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस के साथ पूरे समय मौजूद रहेंगे। इसी प्रकार सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए।
कलेक्टर श्री आर्य ने निर्देश दिए कि प्रतियोगिता के उद्घाटन एवं समापन अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएं। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार खिलाड़ियों को स्टेशन, बस स्टैंड से आवास स्थल तक एवं आवास स्थल तक लाने ले जाने के लिए परिवहन विभाग के माध्यम से बसों की व्यवस्था की जाए।

सभी अधिकारी अपने दिए गये दायित्वों का निर्वहन पूरी शिद्दत के साथ करें जिससे 18 नवंबर से आयोजित होने वाली राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता निर्विघ्न एवं शांतिपूर्ण रूप से संपन्न की जा सके ।

उक्त निर्देश कलेक्टर दीपक आर्य ने 18 नवंबर से आयोजित होने वाली 66 वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता की तैयारियों के संबंध में आयोजित समस्त विभागों के अधिकारियों की बैठक के अवसर पर दिए।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक तरुण नायक जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री क्षितिज सिंघल जिला शिक्षा अधिकारी अखिलेश पाठक, सहायक संचालक अरविंद जैन, खेल अधिकारी संजय दादर, विकास खंड शिक्षा अधिकारी रेनू परस्ते, सुधीर तिवारी, राजीव तिवारी,  मनोज तिवारी, टी.एन. मिश्रा, मनोज अग्रवाल, महेंद्र सिंह सहित समस्त समितियों के संयोजक एवं सदस्य मौजूद थे।

श्री तरुण नायक ने कहा कि समस्त आवासी स्थलों एवं खेल स्थल की सुरक्षा व्यवस्था हेतु आवश्यक सुरक्षा बल तैनात किया जाएगा उन्होंने कहा कि इसी प्रकार खिलाड़ियों के आवागमन के लिए भी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई है जिसमें भी सुरक्षा हेतु बल तैनात किया जाएगा ।

जिला शिक्षा अधिकारी अखिलेश पाठक ने समीक्षा बैठक में  बताया कि प्रतियोगिता में जबलपुर, रीवा, ग्वालियर, नर्मदा पुरम आदिवासी विकास, सागर, शहडोल, इंदौर, उज्जैन, भोपाल संभागों के लगभग 800 से अधिक प्रतियोगी भाग लेंगे ।

श्री पाठक ने बताया कि बालक वर्ग की आवास व्यवस्था ईमानुएल हिंदी, अंग्रेजी माध्यम स्कूल, स्वीडिष मिशन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, शासकीय हाई स्कूल गोपालगंज, जैन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय एवं तक्षशिला उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में की गई है जबकि बालिका वर्ग के लिए महारानी लक्ष्मीबाई विद्यालय बस स्टैंड, शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, वात्सल्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल एवं आर्य कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में की गई है। 

जिला शिक्षा अधिकारी श्री पाठक ने बताया कि प्रतियोगिता को संपन्न कराने के लिए प्रतियोगिता संचालन समिति नियंत्रण समिति प्रचार प्रसार समिति सुरक्षा व्यवस्था अनुशासन समिति उद्घाटन समापन सांस्कृतिक समारोह समिति आवास व्यवस्था समिति स्वल्पाहार समिति चिकित्सा समिति भोजन जांच एवं व्यवस्था समिति यातायात समिति क्राय कंट्रोल रूम कार्यालय में पंजीयन समिति एवं वित्त समिति का गठन किया गया है एवं आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जा रही हैं।

City Sports Complex-सिटी स्टेडियम  में दिन-रात के क्रिकेट मैच भी खेले जा सकेंगे

सागर वॉच/
सागर स्मार्ट सिटी के माध्यम से अत्याधुनिक खेल सुविधाओं के साथ एकीकृत खेल परिसर  के रूप में सिटी स्टेडियम बन कर तैयार है। नगरीय विकास एवं आवास विभाग के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने 
स्टेडियम को सागर की बड़ी उपलब्धि बताया। 

उन्होंने सिटी स्टेडियम में दी गई अंतर्राष्ट्रीय खेल सुविधाओं का निरीक्षण करते हुए खिलाडियों एवं अन्य जन को प्रदान की जाने वाली सुविधाओं की सराहना की। उन्होंने कहा की अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ ऐतिहासिक कार्य सागर के युवाओं हेतु सिटी स्टेडियम के रूप में किया गया हैं। 

उन्होंने कहा झील के स्तर से होने के कारण इस क्रिकेट मैदान में पुराने समय में पानी भरने की समस्या रहती थी जिसे दूर करने के लिए मुरम आदि से कई परतों में भराव कर मैदान की ऊचाई बढाई गई है

मैदान के चारों ओर निकासी नाली  भी बनाई गई है। जिससे इस मैदान पर अब रिसाव की समस्या भी नहीं रहेगी। यहां दर्शकों हेतु लगभग 1000 लोगों की बैठक व्यवस्था बनाई गयी  है। रात्रि में भी मैच कराने हेतु फ्लड लाइट्स भी लगाई गयी हैं इससे दिन-रात के  मैच यहां किए जा सकेंगे। 

तीन प्रेक्टिस पिच और एक इंडोर पिच के साथ बॉलिंग मशीन जैसी सुविधाओं से जल्दी ही हमारे यहां के युवा भी बेहतर खेल प्रदर्शन कर क्रिकेट में माहिर बनेंगे। सिटी स्टेडियम में शूटिंग रेंज का निरीक्षण कर उन्होंने 10 मीटर एयर गन से निशाना भी साधा और इस सुविधा की सराहना करते हुए कहा की ये सागर के लिए एक ऐतिहासिक कार्य है। 

उन्होंने जिम एरिया का भी निरीक्षण कर कहा की यहां जिम में पर्याप्त स्थान  दिया गया है। जिससे यहां तंदरुस्ती हेतु आने वाले युवाओं को सहूलियत होगी, बॉक्सिंग रिंग जैसी सुविधाएं भी सागर के लिए शायद नई हैं युवा उत्साह के साथ इन सुविधाओं का लाभ लेंगे। 

उन्होंने बहु उद्देशीय  कोर्ट में टेबिल टेनिस, कैरम, शतरंज  जैसी सुविधाओं, ताइक्वानडो हॉल, बेडमिंटन कोर्ट, स्क्वेश कोर्ट आदि का भी निरीक्षण किया। उन्होने बिलियर्ड टेबल्स की साइज आदि की जानकारी ली एवं खेल कर भी देखा। यहां फुल साइज की 2 बिलियर्ड्स टेबिल लगाई गई हैं। 

उन्होंने कहा की राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय स्तर के मानकों अनुसार दी गई बेहतर खेल सुविधाओं के साथ संबंधित सुविधाएं जैसे मीडिया ऐनालिसिस रूम, स्पा सेंटर रूम, केफेटेरिया, डोर मेट्रीस, पवेलियन, चेंजिंग रूम, टॉयलेट एवं प्लेयर्स हेतु लॉकर हॉल आदि होने से अब हम यहां राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताएं आयोजित कराने हेतु प्रयास करेंगे।

मुख्यमंत्री द्वारा 26 नवम्बर को इस सिटी स्टेडियम के साथ-साथ अन्य परियोजनाओं का लोकार्पण किया जाएगा। स्मार्ट सिटी द्वारा दो खेल स्टेडियम तैयार कराये जा रहे हैं जिससे यहां के नागरिकों को बेहतर खेल सुविधाओं का लाभ मिलेगा।

उल्लेखनीय है की सिटी स्टेडियम में इंडोर बिल्डिंग में शीर्ष मंजिल पर स्क्वैश का स्टैंडर्ड डबल कोर्ट, बिलियर्ड्स रूम में दो टेबिल सभी संबंधित खेल उपकरणों सहित लगाई गई हैं। वीडियो एनालिसिस के लिए स्मार्ट एनालिसिस रूम भी तैयार किया गया है। सेकंड फ्लोर पर बैडमिंटन मेपल वुडेन से 3 कोर्ट तैयार किए गए हैं। 

ताइक्वांडो हॉल का विनायल व रबर से फ्लोर तैयार किया गया है। इसके साथ ही प्लेयर अकॉमोडेशन हॉल तैयार किया गया है। फर्स्ट फ्लोर पर लगभग 500 वर्गमीटर का जिम्नेजियम एरिया तैयार किया गया है। 

यहां अधिकतम 200 किलोग्राम भार क्षमता वाली 4 कॉमर्शियल ट्रेडमिल, कॉमर्शियल एलिप्टिकल ट्रेनर, रिकंबेंट बाइक, अपराइट बाइक, एयर रोइंग मशीन, स्टेप मिल, हेवी ड्यूटी मल्टी जिम मशीन, चेस्ट प्रेस, केबल क्रॉसओवर, ओलंपिक फ्लैट बेंच, मल्टी ऐव बेंच आदि स्टैंडर्ड साइज मशीनों सहित अन्य जिम उपकरण लगाए गए हैं। 

यहां स्टैंडर्ड साइज बॉक्सिंग रिंग तैयार किया गया है जहाँ सभी सबंधित उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं। 2 से अधिक टेबिल टेनिस एवं इंडोर गेम्स के लिए विनाइल फ्लोरिंग सहित हॉल तैयार किया गया है। कॉमेंट्री रूम एवं एडमिनिस्ट्रेशन रूम भी यहां तैयार किए गए हैं। 

बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर स्टैंडर्ड इंडोर क्रिकेट प्रेक्टिस पिच पर बॉलिंग मशीन नेट सहित तैयार की गई है। बॉलिंग मशीन द्वारा 60 किलोमीटर प्रतिघंटा से 150 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से बॉलिंग की जा सकती है। इस मशीन से मल्टीपल मोड जैसे स्विंग, बाउंस, स्पिन आदि में भी बॉल डाली जा सकती हैं। यहां 10 मीटर एयर राइफल, एयर पिस्टल शूटिंग रेंज भी तैयार की गई हैं। इस रेंज में एंटी बेलेस्टिक वॉल तैयार की गई हैं। 

यहां स्टीम बाथ, सोना बाथ सहित स्पा रूम तैयार किया गया है। पुरुष एवं महिलाओं के लिए अलग टॉयलेट व्यवस्था, मेल-फीमेल ड्रेसिंग रूम, कॉमर्शियल शॉप, स्पोर्ट केफेटेरिया एंड किचिन आदि सुविधाएं दी गई हैं।

इसके साथ ही खेल मानकों अनुसार क्रिकेट ग्राउंड तैयार करने का कार्य गति के साथ किया जा रहा है। यहां दिन-रात के  क्रिकेट मैच की सुविधा के लिए फ्लड लाइट्स भी लगाई जा रही हैं। जल्दी ही शहर के साथ-साथ आस-पास के खिलाड़ियों को भी राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल सुविधाएं मुहैया होंगी। जिससे सागर के खिलाडियों की प्रतिभा में भी निखार आएगा और राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ये खिलाड़ी अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सागर को भी अग्रणी खेल सिटी बनाने में अपना योगदान दे सकेंगे।

Achievement - प्रदेश की भारत्तोलन प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक पर सागर का कब्ज़ा

सागर 
वॉच
 जबलपुर में आयोजित एमपी स्टेट पावर लिफ्टिंग चैंपियनशिप-2022 में सागर की बेटी आयुषी अग्रवाल ने जिले का नाम प्रदेश में सबसे ऊपर पहुंचा दिया है। आयुषी ने चैंपियनशिप में ओवर ऑल 387.5 किलोग्राम वजन उठाकर पहला स्थान पर रहकर गोल्ड मेडल हासिल किया। उन्होंने यह उपलब्धि दूसरी बार में ही हासिल कर ली। 

इसके पहले मप्र स्टेट पॉवर लिफ्टिंग चैंपियनशिप 2021 बड़नगर उज्जैन में आयोजित की गई थी, जिसमें आयुषी ने सिल्वर मेडल जीता था। उस दौरान उन्होंने 330 किलोग्राम का वजन उठाया था। इस बार आयुषी ने 57.5 किलोग्राम ज्यादा वजन उठाकर गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया है। अब वे नेशनल प्रतियोगिता में मप्र का प्रतिनिधित्व करेंगीं। उधर, प्रतियोगिता के दौरान सीनियर कैटेगरी में आयुषी को बेस्ट पॉवर लिफ्टर का अवार्ड भी मिला।


पॉवर लिफ्टिंग में बीना के नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट और आयुषी के कोच शैलेंद्र एडविन ने बताया कि जबलपुर में 3 और 4 सितंबर को आयोजित प्रतियोगिता में आयुषी ने 76 किग्रा सीनियर वर्ग कैटेगरी में हिस्सा लिया था। जिसमें उन्होंने स्कॉट में 155 किलोग्राम, बैंच प्रेस में 77.5 किलोग्राम और डेडलिफ्ट में 155 किलोग्राम का वजन उठाया। उन्होंने ओवर ऑल 387.5 किलोग्राम का वजन उठाकर प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल हासिल किया। 

यह उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम हैं। कोच एडविन बताते हैं कि आयुषी पिछली बार केरल में हुई नेशनल पॉवर लिफ्टिंग चैंपियनशिप में प्रतिनिधित्व कर चुकीं हैं। उन्होंने प्रतियोगिता में ब्रांज मेडल हासिल किया था। इस बार वे नागपुर में अक्टूबर महीने में होने वाली नेशनल पॉवर लिफ्टिंग चैंपियनशिप में मध्यप्रदेश की ओर से प्रतिनिधित्व करेंगीं। मुझे पूरी आशा हैं कि वे बेहतर प्रदर्शन करते हुए वहां भी गोल्ड मेडल अपने नाम दर्ज कराएंगी।

राज्य स्तरीय भारात्तोलन प्रतियोगिता में गोल्ड स्वर्ण पदक करने वाली पहली महिला खिलाड़ी  

आयुषी सागर जिले में पावर लिफ्टिंग स्टेट चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल करने वाली पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं। आयुषी परकोटा निवासी अशोक अग्रवाल की बेटी और भारतीय जनता युवा जिलाध्यक्ष सागर यश अग्रवाल की बहन हैं। वे जबलपुर से रविवार रात को सागर लौटेंगी। आयुषी ने अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता और कोच को देतीं हैं।
Press Confrerence-वेस्ट जोन अंतर-विश्वविद्यालय पुरुष खो-खो प्रतियोगिता 10  मार्च से

सागर वॉच/ 07 मार्च/
डॉ. हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर में वेस्ट जोन अंतर-विश्वविद्यालय पुरुष खो-खो प्रतियोगिता का आयोजन दिनांक 10 से 13 मार्च 2022 तक किया जा रहा है. इस प्रतियोगिता में पश्चिम क्षेत्र की 65 विश्वविद्यालय प्रतिभागिता करेंगे। 

इस अवसर पर आयोजित प्रेस-वार्ता में कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने संबोधित करते हुए कहा कि यह हर्ष का विषय है कि कोरोना की लम्बी अवधि के बाद विश्वविद्यालय परिसर में खेल गतिविधि एक बड़े आयोजन के साथ शुरू हो रही है 

भारतीय विश्वविद्यालय संघ, नई दिल्ली और विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्त्वावधान में शारीरिक शिक्षा विभाग द्वारा चार दिवसीय खो-खो (पुरुष) प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है. खेल से संबंध आत्मीय और प्रगाढ़ होते हैं और हमारा शरीर भी स्वस्थ रहता है, इसलिए खेल से जुड़े रहना चाहिए और प्रत्येक व्यक्ति में खेल की भावना होनी चाहिए

शारीरिक शिक्षा विभाग के निदेशक प्रो. रत्नेश दास ने 10 से 13 मार्च तक चलने वाली प्रतियोगिता के बारे में विस्तृत रूपरेखा प्रस्तुत की और आयोजित की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि मानदंड के अनुसार निर्णायक मंडल को भी आमंत्रित किया गया है सभी प्रतियोगी टीम के आवास-भोजन इत्यादि की व्यवस्था विश्वविद्यालय परिसर में की गई है। कुलसचिव संतोष सोहगौरा ने सभी पत्रकार गणों का आभार प्रकट किया।

पूर्व में भी विश्वविद्यालय में हुई हैं अंतर-विश्वविद्यालय खेल प्रतियोगिताएं

प्रो. दास ने बताया कि विश्वविद्यालय खेल परिसर में वर्ष 2002 में बैडमिन्टन, 2010-11 में टेबल-टेनिस, 2011-12 में हॉकी एवं बालीवाल अंतर-विश्वविद्यालय प्रतियोगिता का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है. इसके साथ ही 2015-16 में अंतर-विश्वविद्यालय क्रिकेट प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जा चुका है. यह प्रतियोगिता 19 दिनों तक चली. इसी क्रम में खो-खो (पुरुष) का यह आयोजन कई मायने में महत्त्वपूर्ण है।

ये विश्वविद्यालय कर रहे हैं प्रतिभागिता

डॉ बाबासाहेब अम्बेडकर मराठवाड़ा औरंगाबाद, कवियत्री भीनाबाई सी.एन.एम.विवि.जलगांव, जेआर.एन. विश्वविद्यालय, उदयपुर. महाराजा गंगा सिंह विवि बीकानेर, राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर, राजीव गांधी प्रौदयोगिकी विवि, भोपाल, देवी अहिल्याबाई विवि इंदौर, वीरनर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय, आईआईएस जयपुर, स्वर्णिम गुजरात विश्वविद्यालय , एम.एस यूनिवर्सिटी बड़ौदा, एस.जी.बी. विश्वविद्यालय अमरावती, आर.टी.एम. विश्वविद्यालय नागपुर, सरदार कृषिनगर डी.ए. विवि. गुजरात, भारती विद्यापीठ विश्वविद्यालय पुणे, गोविंद गुरु आदिवासी विश्वविद्यालय बांसवाड़ा, एलएनआईपीई ग्वालियर.

श्री गोविंद गुरु यूनिवर्सिटी गुजरात, हेमचंद्रचार्य उत्तर गुजरात विश्वविद्यालय, भगवान महावीर विवि सूरत गुजरात, भक्तकवि नरसिंह विवि, गुजरात, पैसिफिक एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन यूनिवर्सिटी, डॉ. हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, सेज यूनिवर्सिटी इंदौर, राजऋषि भर्तृहरि विश्वविद्यालय अलवर, नवसारी कृषि विश्वविद्यालय, नवसारी, जूनागढ़ कृषि यूनिवर्सिटी जूनागढ़ गुजरात, गोकुल ग्लोबल यूनिवर्सिटी सिद्धपुर, गुजरात, निम्स विवि राजस्थान, जयपुर, सिंघानिया विवि झुंझुनू, राजस्थान, माधव यूनिवर्सिटी राजस्थान, श्री कौशलदास विवि, शिवाजी विवि कोल्हापुर

सावित्रीबाई फुले विश्वविद्यालय पुणे, कच्छ विश्वविद्यालय, छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय, एम.के. भावनगर विश्वविद्यालय, सरदार पटेल विश्वविद्यालय वल्लभनगर, आईटीएम विश्वविद्यालय ग्वालियर, भूपाल नोबल्स विश्वविद्यालय उदयपुर, मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय उदयपुर, जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर, जीवाजी यूनिवर्सिटी ग्वालियर, पंडित डीयूएस यूनिवर्सिटी सीकर, गुजरात टेक्नोलॉजिकल गुजरात, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, पुण्यश्लोक सोलापुर विश्वविद्यालय, एम.पी.के.वी. विश्वविद्यालय राहुरी अहमदनगर, पारुल यूनिवर्सिटी, गुजरात एस.आर.टी.एम.विश्वविद्यालय, नांदेड़, कोटा विश्वविद्यालय, कादी सर्व विवि गांधीनगर, बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल, जगन्नाथ विवि, जयपुर, निरमा विवि अहमदाबाद, मौलाना आजाद विवि जोधपुर, एम.डी.एस. विश्वविद्यालय अजमेर, कवि कुलगुरु कालिदास संस्कृत विवि, सौराष्ट्र विश्वविद्यालय राजकोट, महाराजा छत्रसाल विवि छतरपुर, राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय गुजरात, आईआईटीई स्टेट यूनिवर्सिटी गुजरात, गुजरात विवि अहमदाबाद, रानी दुर्गावती विवि जबलपुर, मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई

Kudo-Championship-मप्र-के-खिलाडियों-ने-जीते-21-स्वर्ण-सहित-37-पदक

सागर वॉच।
 
हिमाचल प्रदेश के सोलन में आयोजित 11वीं राष्ट्रीय कूडो प्रतियोगिता एवं फेडरेशन कप में मध्य प्रदेश सागर के खिलाड़ियों ने दोनों प्रतियोगिताओं में 21 स्वर्ण पदक, 7 रजत पदक एवं 9 कांस्य पदक प्राप्त किये। 

सितम्बर माह के पहले हफ्ते में आयोजित इन खेल प्रतियोगिताएं में कूडो एसोसिएशन ऑफ मध्य प्रदेश के सचिव डॉ मोहम्मद ऐजाज़ खान के नेतृत्व में 73 सदस्यीय दल ने  प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया जिसमें सागर के 28  खिलाड़ी शामिल हुए । 

Also Read: Admission Open- 37 विषयों पी-एचडी पाठ्यक्रम संचालित होगा

प्रतियोगिता में  म प्र एवं सागर कि इस उपलब्धि पर लीगल राइट्स कॉउन्सिल- इंडिया की प्रदेश उपाध्यक्ष अनु जैन ने महिला खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते हुए उन्हें सागर का गौरव बताया  जो कूडो जैसे कठिन मार्शल आर्ट में भी शहर का नाम उज्ज्वल कर रहे हो। उन्होंने इन खिलाडियों से कहा कि वे अपनी सहेलियों को भी ये सिखाएं जिससे वो भी खेल के साथ साथ अपनी रक्षा करनी की कला सीख सकें।

        विधायक शैलेन्द्र जैन ने खिलाड़ियों से कहा कि कूडो अब भारत सरकार से मान्यता प्राप्त खेल है और भारत सरकार द्वारा नौकरियों में कूडो खेल को आरक्षण भी दिया हुआ है। अब आप कूडो खेल में अपना भविष्य भी बना सकते हैं। उन्होंने फेडरेशन के चेयरमैन अक्षय कुमार एवं फेडरेशन के अध्यक्ष मेहुल वोरा का भी धन्यवाद दिया जिनके प्रयासों से कूडो खेल इतनी तरक्की कर रहा है। विधायक जैन ने कहा कि कूडो खेल एवं खिलाड़ियों की हर संभव मदद मिलेगी।

Also Read: घर चलाना शुरू किया पोल्ट्री फार्म से अब बनी मुर्गी पलक संघ की अध्यक्ष
      प्रतियोगिता में 
  • करन पटेल ने स्वर्ण एवं कांस्य पदक, 
  • राज पटेल ने दो स्वर्ण पदक नायब अली ने दो स्वर्ण पदक 
  • ऋषभ पटेल ने एक स्वर्ण पदक 
  • शैलेंद्र सिंह कुर्मी दो स्वर्ण पदक 
  • स्तुति शर्मा दो स्वर्ण पदक 
  • वैष्णवी ठाकुर एक स्वर्ण पदक 
  • संचित जैन दो स्वर्ण पदक 
  • मोहम्मद सोहेल खान एक स्वर्ण पदक 
  • फातिमा शेख एक स्वर्ण एक रजत पदक 
  • आदर्श ठाकुर एक स्वर्ण एक रजत पदक 
  • सपना अहिरवार एक स्वर्ण एक रजत पदक 
  • अश्विन पटेल एक स्वर्ण एक रजत पदक 
  • सक्षम तिवारी एक रजत एक कांस्य पदक 
  • अंशिका तिवारी दो कांस्य पदक 
  • योगेंद्र उदैनिया दो कांस्य पदक 
  • करण पटेल एक रजत पदक एक कांस्य पदक 
  • युवराज सिंह पवार एक स्वर्ण पदक पूर्व सैनिक स्वर्ण पदक 
  • काव्या साहू रजत पदक 
  • रुकमणी यादव कांस्य पदक 
  • हिमांशु मिश्रा कांस्य पदक।

 Smart-City-In-Making-चर्चित-क्रिकेटर-सहवाग-को-भी-पसंद-आये-सागर-स्मार्ट-सिटी-के-खेलों-को-बढ़ावा-देने-के-प्रयास


सागर वॉच  मप्र की सागर स्मार्ट सिटी में खेलों को बढ़ावे देने की लिए  किए गए  शोध  व विकास कार्यों से चर्चित क्रिकेट खिलाड़ी काफी प्रभावित हुए हैं । उन्होंने ट्वीट के जरिए सागर स्मार्ट सिटी के इन प्रयासों की तारीफ करते हुए लिखा है कि यह स्मार्ट कदम है इससे बच्चों को उनकी जरूरत के मुताबिक खेल की सुविधाएं मिलेंगीं इससे खेलों में नौकरियां भी बढ़ेंगीं व खेलों का विकास भी होगा। टीम के प्रयासों के लिए  सहवाग ने बधाई भी दी।


प्रख्यात क्रिकेटर वीरेन्द्र सहवाग के इस ट्वीट के जवाब में मप्र के नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने भी ट्वीट कर  सहवाग का शुक्रिया अदा करते हुए लिखा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान  नेतृत्व में  मप्र सरकार प्रदेश में  खेलों के लिए  बेहतरीन आधारभूत ढांचा व सुविधाएं विकसित करने के लिए संकल्पबद्ध है।

इस सिलसिले में सागर स्मार्ट सिटी के कार्यकारी निदेशक राम प्रकाश अहिरवार ने बताया कि  खेल सुविधाओं के विकेन्द्रीयकरण  के लिए शहर के सभी 48 वार्डों में खेल सुविधाओं के विकास करने के कई फायदे हैं  जैसे वार्ड विशेष के बच्चों की जिस खेल में ज्यादा रूचि हैं उस वार्ड में उसी  खेल से जुड़ी सुविधाएं मुहैया कराईं जा रहीं हैं। 


वार्ड स्तर के खेल स्थानों में अधिक से अधिक बच्चे  इन सुविधाओं का लाभ उठा पाएंगें। क्योंकि यह व्यवहारिक नहीं है खेलों में रूचि रखने वाले सभी बच्चे शहर के बड़े स्टेडियम या खेल मैदानों में रोज जा सकें। इसके अलावा  वार्ड स्तर के इन खेल पार्कों   में स्थानीय बुजुर्गों व महिलाओं के लिए भी  सैर करने व  स्वच्छ हवा व धूप लेने का मौका मिलेगा।

स्मार्ट सिटी के कार्यकारी निदेशक श्री अहिरवार के मुताबिक इन खेल पार्कों में  स्थानीय बच्चों की रूचि के मुताबिक पारंपरिक खेलों कबड्डी , मलखंभ, खो-खो जैसे खेलों की सुविधाएं भी विकसित की जा रहीं हैं। जिससे आधुनिक खेलों के साथ -साथ पारंपरिक खेलों और खिलाड़ियों का भी विकास हो सके। 


इन पार्कों के  निर्माण के कार्य में लगी कंपनी  के जरिए खेलों व खेल सुविधाओं के विकास के लिए कराए गए शोध कार्य के दौरान दल ने शहर के विभिन्न वार्डों में घूम-घूम कर  शहर के लोगों से चर्चा कर यह पता लगाया कि  किस वार्ड में कौन सा खेल खेला जाता है ताकि वहां उसी  खेल  से जुड़ी सुविधाएं  महैया कराई जा सकें ।

टीम ने यह भी जानने की कोशिश की  कि शहर में किन-किन खेलों के प्रशिक्षक उपलब्ध हैं लेकिन उन्हें  बच्चे नहीं मिलते हैं  और किन खेलों के बच्चों को  प्रशिक्षक उपलब्ध नहीं हैं।  टीम ने अपने शोध कार्य में खेल व खेल सुविधाओं के विकास को लेकर वाणिज्यिक पहलू से भी गौर किया ताकि खेलों और खेल सुविधाओं के विकास के साथ शहर में रोजगार के अवसर भी बढ़ सकें और इन पार्कों के रखरखाव का खर्च भी निकाला जा सके।


वार्ड स्तर पर इन खेल सुविधाओं के विकास करने के पीछे की सोच के बारे में  स्मार्ट सिटी सागर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल सिंह ने बताया कि  आजकल मां-बाप की सबसे बड़ी परेशानी है बच्चों को अधिक से अधिक समय मोबाईल पर गुजारना है  जिससे उन्हें सेहत संबंधी कई समस्याएं भी  पैदा हो जातीं है।। 

कोविड  महामारी के दौरान  चल रही ऑन लाईन  कक्षाओं के कारण यह समस्या और भी गंभीर हुई है। ऐसे में बच्चों को मोबाईल से दूर कर खेल के मैदान तक लाने की पहली जरूरत उनके लिए घर के आसपास मुहल्ला स्तर पर खेला सुविधाओं का मुहैया कराना भी जरूरी है। ताकि उनकी खेलों के प्रति रूचि को और बढ़ाया जा सके। इससे न केवल उनकी सेहत सुधरेगी बल्कि नए-नए खिलाड़ी भी सामने आ पाएंगें। साथ ही वार्ड  के बुजुर्गों व महिलाओं के लिए भी  घूमने, कसरत करने का  स्थान मिल जाएगा।


राहुल सिंह के मुताबिक इस कवायद से यह भी पता चला कि शहर के  लोगों  का शरीर किस तरह के खेलों के अनुकूल है व किस तरह की कमजोरियां उनमें है। खेल  के जानकारों  के सुझावों के आधार पर तय हुआ कि  किस तरह के खेल व व्यायाम सुविधाएं  मुहैया कराईं जांए जिससे खिलाड़ियों की  क्षमताओं का विकास व उनकी कमजोरियां दूर हो सकें।  इसी  अध्ययन के आधार पर सागर स्मार्ट सिटी शहर के सभी 48 वार्डें में खेल-क्षेत्र  (प्ले-एरिया) विकसित कर रहा है।