Articles by "Panchayat"
Panchayat लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Strict-Action-कामकाज-में-लापरवाही-पर-सोलह-सचिव-निलंबित-तीन-पर-प्राथमिकी-दर्ज

सागर वॉच। 
जिला पंचायत के तहत एक सनसनीखेज करवाई में कार्यो में लापरवाही एवं वित्तीय अनियमितता पाये जाने पर 16 सचिवों को निलंबित किया गया है। इस कारवाई में जहाँ 
सीईओ जनपद पचायतों को 3 सचिवों पर एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं वहीं 7 सचिवों पर वसूली अधिरोपित की गयी है।

यह कारवाई  मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ. इच्छित गढ़पाले ने जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों से प्राप्त प्रस्तावों के आधार पर की है। ग्राम पंचायत किल्लाई में राशि निकालने के बाद भी कार्य न कराये जाने के कारण मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायात  जैसीनगर को संबंधितों के विरूद्ध प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज करने हेतु निर्देशित किया गया।


निलंबित सचिव 

अनियमितता पाए जाने पर निलंबित होने वाले सचिवों में राधेष्याम गोस्वामी झेजटखेडा बण्डा, सुरेन्द्र सिंह पाटन बण्डा, हरिषचंद्र चढार बमनोद रहली राजकुमार यादव बीना, वीरेन्द्र लोधी सागोनी, बालहरी विष्वकर्मा जैसीनगर हरदास यादव सीपुरखास मालथौन, चमनलाल अहिरवार खामखेडा देवरी, कालूराम चडार सरखडी जैसीनगर, प्रमोद साहू सेमराहाट राहतगढ, ब्रजेन्द्र सिंह किल्लाई जैसीनगर, प्रियांशु  तिवारी रीछई देवरी शामिल हैं।

इनके विरूद्व की गई एफआईआर

बालहरी विश्वकर्मा जैसीनगर, कालूराम चडार सरखडी जैसीनगर पर एफ आई आर की गई है।


इनसे होगी वसूली

यशपाल जैन थांवरी भिलैया केसली, परमलाल लोधी गौरझामर देवरी, देवी सींग हनोता सहावन बण्डा, अनिरूद्व तिवारी बरोदिया कंजिया, सही शिवकुमार तिवारी, तुलसीराम पटेल हरदोट एवं पलकाटोर से वसूली की जाएगी ।

 Mass-Vaccination-Drive-बोबई-ग्राम-बना-जिले-का-पहला-पूर्णतः-टीकाकृत-गाँव


सागर वॉच@
 टीकाकरण महाभियान के पहले दिन ही सागर जिले की मालथौन जनपद का बोबई गाँव जिले का पहला ऐसा गाँव बन गया है, जहाँ सभी पात्र लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। यहाँ शेष बचे 71 लोगों को वैक्सीन की खुराक मिलते ही सभी पात्र लोगों का टीकाकरण पूरा हो गया है।

इस सिलसिले में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इक्षित गढ़पाले ने बताया कि बोबई गाँव की आबादी करीब 580 है। इनमें से 353 लोग टीकाकरण के लिए पात्र थे। जिनमें से 310 लोगों को टीका लग गया है। गाँव की 4 महिलाएं गर्भवती हैं, इसलिए उन्हें वैक्सीन नहीं लगाई गई है। जबकि 39 लोग गाँव से बाहर हैं। फिलहाल गाँव में रहने वाले सभी लोगों का टीकाकरण पूर्ण हो गया है।

Also Read: -पहले-ही-दिन-सागर-में-लक्ष्य-से-ज्यादा-हुआ-टीकाकरण

उनके मुताबिक गाँव में 45 साल से अधिक आयु के 113 तो 18 से 44 साल के 240 लोग टीकाकरण के लिए पात्र थे। इन्हीं को जागरूक कर वैक्सीन लगवाई गई। जब गाँव में कोई भी टीके के लिए वंचित नहीं रहा तभी स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव से रवाना हुई। टीका लगवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पौधे भी भेंट किए गए।

इस उपलब्धि पर जिला कोविड प्रभारी पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव, क्षेत्रीय विधायक नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने ट्वीट कर ग्रामीणों को बधाई दी है। संभागायुक्त मुकेश शुक्ला एवं कलेक्टर दीपक सिंह ने भी ग्रामीणों की जागरूकता की प्रशंसा कर सभी ग्राम वासियों सहित जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ इच्छित गढ़पाले और उनकी टीम को बधाई दी।

Also Read: नियमित अभ्यास से मिलता है योग से लाभ-योगाचार्य विष्णु आर्य

खास बात यह भी है कि बोबई ग्राम पंचायत हड़ली का गाँव है। यहाँ सभी पंच और सरपंच पदों पर महिलाएं हैं। महिलाओं ने मोर्चा संभाल कर ग्रामीणों को जागरुक किया। सरपंच लीलाबाई अहिरबार, उपसरपंच गुड्डीबाई लोधी ने सभी पंचों, साचिव व जीआरएसएस, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका व आशा कार्यकर्ताओं के साथ लोगों के घर-घर दस्तक दी और उनसे टीका लगवाने की अपील की।
जागरुक लोग 50 किलोमीटर दूर सागर तक वैक्सीन लगवाने आए, तो कई लोगों को मनाने में 3 माह लग गए। पंचायत के सचिव संतोष विश्वकर्मा ने बताया गांव में दो तरह के लोगों ने कार्य किया। जब 18 प्लस का वैक्सीनेशन शुरू हुआ और स्लॉट बुक नहीं हो रहे थे तब कुछ लोगों ने 50 किमी दूर सागर तक पहुंचकर टीका लगवाया। यह अन्य लोगों के लिए उदाहरण भी बने। हालांकि कई लोग ऐसे भी थे, जिन्हें मनाने में पूरे 3 माह लग गए तब जाकर वे टीका लगवाने के लिए राजी हुए।


जीआरएस माधुरी तिवारी ने बताया कि, लोग वैक्सीन लगवाने से डर रहे थे और तमाम तरह की अफवाह उनमें फैली हुई थीं। बड़ी संख्या में लोग वैक्सीन से वंचित थे। कम प्रगति देख जिला पंचायत सीईओ डॉ इच्छित गढ़पाले ने हमारी पंचायत को गोद लिया, सप्ताह में दो बार वे गांव आए। उन्होंने लोगों को समझाइश दी तब जाकर लोग माने। जनपद सीईओ हेमेंद्र गोविल भी लगातार गाँव आकर ग्रामीणों को जागरूक कर रहे थे।

Kill-Corona-Campaign- सागर-जिले-की-सत्तर-फीसदी-पंचायतें-हुईं-कोरोना-मुक्त

सागर वॉच @ कोरोना संक्रमण की रफ्तार भले ही अभी पूरे देश में कम नहीं हुई है लेकिन बुंदेलखंड के खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में यह पूरी तरह से काबू में आता दिख रहा है। जिला प्रशासन के आंकड़ों के मुताबिक सागर जिले की 71 फीसदी से ज्यादा पंचायतें कोरोना के संक्रमण से मुक्त हो गईं है। 43 फीसदी पंचायतें तो ऐसीं हैं जहां कोरोना संक्रमण पहुंच ही नहीं पाया। इसके अलावा करीब 29 फीसदी पंचायतों में पिछले  दो सप्ताह से एक भी व्यक्ति कोरोना से संक्रमित नहीं हुआ। इसके चलते जिले के ग्रामीण इलाकों में कोरोना से संक्रमित होने की दर ( Positivity Rate) घटकर केवल ३ फीसदी रह गयी है।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ इच्छित गढ़पाले के मुताबिक निरंतर निरीक्षण करने एवं जनप्रतिनिधियों की सहभागिता से जिले की 734 ग्राम पंचायतों में से 526 ग्राम पंचायतें कोरोना मुक्त हो गईं है। उन्होंनेे बताया कि जिले की 734 ग्राम पंचायतों में विस्तृत कार्ययोजना बनाई गई।

जिसके तहत समस्त सरपंचों ,पंचायत सचिव,सहायक सचिव को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए और समस्त ग्राम पंचायतों में बाहर से आने वाले प्रवासी व्यक्तियों, श्रमिकों के लिए संगरोध केन्द्र (क्वॉरेंटाइन सेंटर) बनाए गए जिसमें संदिग्धों को 7 दिनों तक इनमें रखने के बाद ही उनको ग्रामों में प्रवेश दिया गया । 

Also Read: Old But Bold-उम्र सौ के पार फिर भी कोरोना को दी पटखनी

डॉ गढ़पाले ने बताया कि जिले की 315 ग्राम पंचायत में ऐसी हैं जहां एक भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित नहीं हो पाया और 211 ग्राम पंचायत हैं ऐसी हैं जिनमें विगत 15 दिवस  में कोई भी  संक्रमित नहीं हुआ।

डॉ  गढ़पाले ने बताया कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए 3 जोन बनाए गए। जिसमें ग्रीन जोन में जिले की 526 ग्राम पंचायतों आ गई हैं। इसी प्रकार 187 ग्राम पंचायतें ऐसी है जिसमें 5 से कम कोरोना संक्रमित व्यक्ति चिन्हित किए गए हैं उनको ऑरेंज जोन में रखा गया है ।डॉ  गढ़पाले ने बताया कि 21 ग्राम पंचायतें ऐसी हैं जिनमें 5 से अधिक कोरोना संक्रमित व्यक्ति पाए गए हैं उनको रेड जोन में रखा गया है। इस प्रकार से 208 पंचायतें जिसमें ऑरेंज जोन और रेड जोन शामिल हैं कोरोना संक्रमण मुक्त के लिए शेष रह गई हैं ।

Also Read: Viral Video: Expose the working of the police

डॉ गढ़पाले ने बताया कि विगत 15 दिवस में ग्रामीण क्षेत्र में पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में कमी आई है, प्रतिदिन सैम्पलिंग के अनुपात में ग्रामीण क्षेत्र में पॉजिटिविटी की दर भी घटकर 3.0 प्रतिशत पर आ चुकी है । किल कोरोना सर्वे प्रत्येक ग्राम में घर घर सर्वे कराया जाकर संभावित संक्रमित चिन्हितकर दवाइयों को वितरण किया गया है जिससे इनका स्वास्थ्य वेहतर बना रहे, इनमें से आधे से अधिक के स्वास्थ्य में सुधार भी हुआ है । पर्यवेक्षण दल द्वारा 13000 से अधिक मेडिसिन किट वितरित की गई है ।

Also Read: Ministers Byte-हर वर्ग के साथ खड़ी प्रदेश सरकारः गोविंद सिंह राजपूत

पंचायत औषधि वितरण केन्द्र  के माध्यम से-सभी ग्राम पंचायत भवनों पंचायत औषधि वितरण केन्द्र स्थापित किये गये है इनमें बच्चों के लिए अलग से दवाएं भी रखाई गई है । ये केन्द्र नियमित रूप से सुबह 10ः30 से शाम 5ः30 बजे तक खुल रहे है, जिनमें संभावित संक्रमित के अतिरिक्त घर के अन्य सदस्य भी स्वास्थ्य अमले से परामर्श अनुसार सामान्य बीमारियों हेतु औषधि प्राप्त कर रहे है । बताया गया है कि जनता कर्फ्यू एवं रोको टोका अभियान - ग्राम पंचायतों द्वारा संकल्प पारित करते हुए जनता कर्फ्यू का उल्लंघन और मास्क न पहनने वालों पर जुर्माना भी लगाया जा रहा है ।

 Read In English -English   
Congratulation-सागर-ने-जीता-दीनदयाल-उपाध्याय-पंचायत-सशक्तीकरण-पुरस्कार

सागर वॉच @
प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  ने  देशभर से  उत्कृष्ट  पंचायतों  की प्रतिस्पर्धा में  भाग लेने वालीं  74000 पंचायतों  में  से  पुरस्कार के लिए चुनी गयीं 313 पंचायतों  को   पुरस्कार  कि राशि  वर्चुअल  बटन दबाकर ट्रांसफर की।  

इसी  प्रतिस्पर्धा में सागर    जिला पंचायत को उत्कृष्ट कार्य हेतु पं. दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरूस्कार के साथ 50 लाख की राशि सीधे  प्राप्त हुयी । 

पुरूस्कार प्राप्त करने के लिये सागर जिला मुख्यालय पर जिला पंचायत की अध्यक्ष  दिव्या अशोक सिंह बामोरा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डाॅ. इच्छित गढ़पाले , अशोक  सिंह बामोरा,   जय गुप्ता जिला तकनीकी विशेषज्ञ उपस्थित रहे।

Also Read: Real Life Hero-Woman doctor travel 180 km from scooty to do Covid duty

 गौरतलब है कि पंचायतीराज दिवस 24 अप्रैल को भारत सरकार द्वारा 5 श्रेणियों में पुरूस्कार ग्राम पंचायतों, जिला पंचायतों को प्रोत्साहन हेतु प्रतिवर्ष दिये जाते है। जिसमें पं. दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरूस्कार, जीपीडीपी पुरूस्कार, बाल हितैषी पंचायत पुरूस्कारी, नानाजी देशमुख पंचायत सशक्तिकरण पुरूस्कारी, ई पंचायत पुरूस्कार की ये पांच श्रेणियों में उनके कार्यो के मूल्यांकन के आधार पर होता है।

वर्चुअल कार्यक्रम में केन्द्रीय पंचायतीराज मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर, माननीय मुख्यमंत्री म.प्र. शासन एवं समस्त राज्यों के माननीय मुख्यमंत्री की मौजूदगी में संपन्न हुआ। कार्यक्रम संपूर्ण भारत से लगभग 5 करोड़ लोगों ने ऑनलाइन देखा। पुरूस्कार प्राप्त होने परं कलेक्टर  दीपक सिंह जिला पंचायत की अध्यक्ष  दिव्या अशोक  सिंह एवं मुख्य कार्यपालन अधिकरी जिला पंचायत डाॅ. इच्छित गढ़पाले द्वारा पंचायतीराज के जिले के समस्त जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारी कर्मचारियों को दी बधाई।

Also Read: Top-officials-took-immediate-steps-to-tighten-BMC-Management