Articles by "Nagar-Palika"
Nagar-Palika लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

lection Updates- नाम वापिसी के बाद खुरई की तीन परिषदों  38 पार्षद निर्विरोध जीते

सागर वॉच। 
मध्यप्रदेश के सागर जिले के खुरई विधानसभा क्षेत्र की बरोदिया नगर परिषद के सभी 15 उम्मीदवार निर्विरोध चुनाव जीत गए है। 
यह एक रिकार्ड है। यहां कांग्रेस को उम्मीदवार तक नहीं मिले है। भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह के विधानसभा क्षेत्र से निर्विरोध जीते सभी उम्मीदवार भाजपा के है। उनके विधानसभा क्षेत्र की तीन नगर परिषदों  के 45 वार्ड पार्षदों में अभी तक 38 उम्मीदवार निर्विरोध जीते है। 

नगरीय निकाय चुनावों में नाम वापिसी का आज अंतिम दिन था। इसके बाद निर्विरोध चुनाव की तस्वीर स्पष्ट हो गई है। खुरई विधायक भूपेंद्र सिंह के मुताबिक पूरी तरह से निर्विरोध निर्वाचन वाले निकायों को सरकार प्रोत्साहन राशि देने पर विचार करेगी।

शहरी क्षेत्रों के विकास को मिला समर्थन

भूपेंद्र सिंह ने मीडिया से चर्चा में बताया कि  खरई विधानसभा में तीन नगर परिषद है। इनमे बरोदिया नगर परिषद के सभी 15 प्रत्याशी, मालथौन नगर परिषद में 12 और बांदरी में 11 उम्मीदवार भाजपा के निर्विरोध जीते है। कुल 45 वार्ड  पार्षदों में से अभी तक 38 निर्विरोध जीत चुके है। बरोदिया नगर परिषद मध्यप्रदेश की  पहली निर्विरोध नगर परिषद भाजपा के खाते से हुई है।  उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की शहरों के विकास के लिए किए गए कार्यो के प्रति समर्थन मिला है। 

पूरी तरह से निर्विरोध निकायों को मिल सकती है प्रोत्साहन राशि 

सीएम शिवराज सिंह ने  प्रदेश में निर्विरोध पंचायतो को लाखों रुपये के प्रोत्साहन राशि देने का एलान किया था। इसके चलते सेकड़ो पंचायत निर्विरोध चुनी गई। इनको 5 से 15 लाख तक कि राशि मिलेगी। नगरीय निकायों के सवाल भाजपा के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सामाजिक समरसता बनाये रखने और  आपसी मतभेद नही बढ़े इसके लिए प्रोत्साहन राशि पंचायतों में देने की घोषणा हुई है। अभी तक प्रदेश में 650 पंचायते ऐसी चुनी गई है। इनमे ज्यादातर भाजपा समर्थित है। अब नगरीय निकायों में कोई नगरपालिका या परिषद पूरी निर्विरोध चुनी जाती है तो उसे प्रोत्साहन राशि मिले, इसके लिए मुख्यमंत्री से चर्चा पर प्रस्ताव लाया जाएगा और राशि दी जाएगी। 

ये जीते निर्विरोध 

नगर परिषद में छत्रपति शिवाजी वार्ड से रतिराजा ऋषिराजा बुन्देला, श्यामाप्रसाद मुखर्जी वार्ड से लखन खिलान सिंह यादव, दीनदयाल उपाध्याय वार्ड से पूजा अजमेर सिंह लोधी, डॉ. अम्बेडकर वार्ड से कमलेशकुमारी लोटन अहिरवार, रानी अवंतीबाई वार्ड से हल्लीबाई उमेश अहिरवार, चन्द्रशेखर आजाद वार्ड से मीनादेवी चुन्नीलाल कुशवाहा, वैष्णोदेवी मंदिर वार्ड से कोमल सिंह सुकलाल यादव, डॉ. एपीजे अब्दुलकलाम वार्ड से रेखा दयाराम चौरसिया, आचार्य विद्यासागर वार्ड से बलराम सिंह दांगी परताप सिंह दांगी, महाराणा प्रताप वार्ड से  खुशाल मुन्नालाल जैन, सबरी वार्ड से रामसखी रामलाल सौर, बिरसामुण्डा वार्ड से सुरेन्द्र घन्सू सौर, सरदार वल्लभभाई पटेल वार्ड से लक्ष्मीबाई केसरी सिंह लोधी, संत रविदास वार्ड से दिलीप कुमार छोटेलाल अहिरवार एवं रानी लक्ष्मीबाई वार्ड से संगीता प्रदीप दुबे शामिल हैं।



सागर वॉच
सागर जिले में पहले और दूसरे चरण के होने वाले नगरीय निकाय निर्वाचन के लिये अभ्यर्थियों द्वारा 1225 नाम निर्देशन जमा किये गये थे। नाम वापिसी के अंतिम दिन 314 अभ्यर्थियों ने अपने नामांकन पत्र वापिस ले लिये। इस प्रकार अब 875 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरेगें। इसके पहले 20 जून को हुई जांच में 36 नाम 
निर्देशन पत्र निरस्त किये जा चुके थे।

सागर नगर निगम
सागर नगर पालिक निगम के महापौर पद के लिये 9 उम्मीदवार में से एक  रश्मि  के नामांकन पत्र वापिस लेने के बाद अब 8 उम्मीदवारों के बीच मुकाबला होगा। वहीं 48 वार्डों में पार्षद के लिए 287 अभ्यार्थी ने नाम निर्देशन पत्र जमा किये थे, जिनमें जांच में 7 के निरस्त होने तथा 72 द्वारा अपना नाम वापिस लेने के बाद अब 208 उम्मीदवार चुनाव लड़ेगें।

बीना नगर पालिका परिषद

बीना नगर पालिका परिषद में 25 वार्डों के पार्षद के चुनाव के लिये 121 नाम निर्देशन पत्रों में से 2 निरस्त तथा 27 द्वारा नामांकन वापिस लेने के बाद 92 उम्मीदवार चुनाव मैदान में शेष है।

देवरी नगर पालिका परिषद

देवरी नगर पालिका परिषद में 15 वार्डों के पार्षद के निर्वाचन के लिये 64 नाम निर्देशन पत्रों में 7 निरस्त होने और 15 अभ्यार्थियों द्वारा नाम वापिस लेने के बाद अब 42 उम्मीदारों के भाग्य का फैसला मतदाता करेंगे।

रहली नगर परिषद

रहली नगर परिषद में 15 वार्ड है, जहां 80 अभ्यार्थियों ने पार्षद के लिये नामांकन पत्र जमा कराये थे, उनमें से 30 अभ्यार्थियों द्वारा नाम वापिस लेने की स्थिति में अब 50 के बीच मुकाबला होगा।

मकरोनिया बुर्जुग नगर पालिका परिषद

मकरोनिया बुर्जुग नगर पालिका परिषद में 18 वार्डों में पार्षद पद के लिये भरे गये 122 नाम निर्देशन पत्रों में जांच के बाद 2 निरस्त हो गये थे, आज 44 उम्मीदवारों ने नामांकन वापिस ले लिया। इस प्रकार 76 उम्मीदवार चुनाव लड़ेगे।

बंडा नगर परिषद

बंडा नगर परिषद में 15 वार्डों के पार्षद के लिये 96 नामांकन पत्र जमा किये गए थे। जांच में 2 निरस्त होने तथा 16 अभ्यार्थियों द्वारा अपने नाम वापिस लेने के बाद 78 प्रत्याशी  के बीच हार जीत का फैसला होगा।

राहतगढ नगर परिषद

राहतगढ़ नगर परिषद में 15 वार्ड पार्षदों के लिये 94 अभ्यार्थियों ने नामांकन जमा किया था। इनमें से आज 26 अभ्यार्थी द्वारा नाम वापिसी के बाद अब 68 उम्मीदवार चुनाव लड़ेगें।

शाहपुर नगर परिषद

शाहपुर नगर परिषद के 15 वार्डों में पार्षद के लिये जमा हुये 63 नामांकन पत्रो में से 2 निरस्त होने तथा 19 अभ्यार्थियों द्वारा नाम वापिस लिये जाने के बाद अब 42 उम्मीदवारों के बीच चुनावी संघर्ष होगा।

शाहगढ़ नगर परिषद

शाहगढ़ नगर परिषद के 15 वार्डों में पार्षद पद के लिये 97 अभ्यार्थियों ने नामनिर्देशन पत्र जमा किये थे, इनमें से 4 के नामांकन निरस्त होने तथा 16 द्वारा नाम वापिस लेने के बाद अब 77 उम्मीवारों के भाग्य का फैसला मतदाता करेंगे।

बिलहरा नगर परिषद

बिलहरा नगर परिषद के 15 वार्डों के पार्षद के चुनाव के लिये अभ्यर्थियों द्वारा जमा कराए गए 57 नामांकन पत्रों में से 3 निरस्त हो गये थे, तथा 15 अभ्यर्थी ने अपने नाम वापिस ले लिये। इस प्रकार अब 39 उम्मीदवारों के बीच मुकाबला होगा। यहां वार्ड क्रमांक 10,11 में एक-एक उम्मीदवार शेष होने से पार्षद निर्विरोध निर्वाचित हो गए।

सुरखी नगर परिषद

सुरखी नगर परिषद के 15 वार्डों में पार्षद चुने जाने के लिये 62 अभ्यार्थियों ने नामांकन पत्र जमा कराये थे। इनमें से 3 के नामांकन निरस्त होने तथा 10 द्वारा नामांकन वापिस लेने के बाद अब 49 उम्मीदवार चुनाव लडेगे।

मालथौन नगर परिषद

मालथौन नगर परिषद के 15 वार्डों के पार्षदों के लिये 23 अभ्यार्थी ने नामांकन पत्र जमा किये थे। 5 अभ्यार्थी द्वारा नाम वापिस लेने के बाद वार्ड क्रमांक 3,4,5 में 2-2 उम्मीदवारों के बीच मुकाबला होगा, शेष वार्डों में पार्षद निर्विरोध निर्वाचित हो गये हैं।

बांदरी नगर परिषद

बांदरी नगर परिषद में 15 वार्डों के लिये पार्षद के लिये कुल 39 नाम निर्देशन पत्र जमा हुये थे, जिनमें से 3 के नामांकन निरस्त हुये तथा 15 द्वारा नाम वापिस लेने के बाद वार्ड क्रमांक 1,5,10,11 में ही निर्वाचन होगा शेष वार्डों में निर्विरोध पार्षद चुन लिये गए।


बरोदिया कॅला नगर परिषद

बरोदिया कला नगर परिषद में सभी 15 वार्डों में पार्षर्दों का चुनाव निर्विरोध हो गया। यहां कुल 20 नामांकन प्राप्त हुये थे, जिनमें से एक नामांकन निरस्त होने तथा चार द्वारा अपना नामांकन पर्चा वापिस ले लिया गया था। 

 सागर। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा सागर जिले की विभिन्न, नगर पालिका परिषद, नगर परिषद हेतु वार्ड पार्षद प्रत्याशियों की अधिकृत सूची जारी की है। इसे ग्रामीण जिलाध्यक्ष सबदेश जैन ने जारी की।

Surkhi

Shahpur

Rehli

Rahatgarh

Malthon

Bina


Bilehra

Bandri


सागर वॉच /
  सागर नगर निगम के महापौर चुनाव में प्रत्याशी चयन में पिछड़ी भाजपा की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। किस जाति वर्ग के प्रत्याशी को उतारा जाए इस बात को लेकर भाजपा में मतभेद पैदा हो गए 

कांग्रेस पार्टी महापौर चुनाव के लिए अपना पांसा निधि सुनील जैन को अपना प्रत्याशी के रूप में पहले ही फेंक चुकी है गौरतलब है कि कांग्रेस प्रत्याशी सागर विधानसभा क्षेत्र से ही चुनाव जीते शैलेन्द्र जैन के छोटे भाई की पत्नी है रिश्तेदारी के इस  समीकरण के चलते भी भाजपा के खेमें में काफी अफरा तफरी का माहौल बना हुआ है

बदले हुए सियासी हालातों में भाजपा का एक बड़ा वर्ग ब्राह्मण समाज का प्रत्याशी उतारने की सिफारिश कर रहा है। लेकिन जातिवर्ग के गणित की अलावा एक और घटक भाजपा की पेशानी पर चिंता की लकीरें खींच रहा है वह है सियासत में लगातार सक्रिय रही हो ऐसे किसी महिला प्रत्याशी की तलाश  भाजपा के अधिकांश महिला दावेदार घरेलू महिला के रूप में हैं उनमें भी कई उम्र की दृष्टि से ज्यादा वरिष्ठ हैं

भाजपा की और से महापौर प्रत्याशी के लिए अब तक जो नाम सामने आये हैं उनमें ऋतू श्याम तिवारी, प्रतिभा चौबे व संध्या भार्गव के नाम ज्यादा चर्चा में हैं । 

ऐसे में भाजपा प्रत्याशी चयन को लेकर चिंतित है नगरी प्रशासन मंत्री भूपेंद्र और नगर विधायक शैलेंद्र जैन के ऊपर ही पार्टी पूरी तरह निर्भर है


ऐसे में  पार्टीजन बड़ी बेसब्री से इन्तजार कर रहे हैं की आखिर दोनों में से किस नेता के समर्थक को प्रत्याशी बनाया जाता है इस बात पर सबकी निगाहें लगी हुई है पार्षद प्रत्याशियों के चयन के मामले में नगर विधायक शैलेंद्र जैन को ज्यादा महत्व मिलने की संभावना है

बताया गया है कि उन्होंने लगभग 38 वार्डों में अपने समर्थक भाजपा नेताओं को पार्षद का टिकट दिलाने की रणनीति बनाई है  शेष 10 स्थानों पर जिले के तीनों मंत्रियों और संगठन से जुड़े भाजपा नेताओं को मौका मिल सकता है

नगरी निकाय चुनाव के मद्देनजर सागर में भाजपा की ओर से सामूहिक भोज का सिलसिला शुरू हो गया है समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों और शासकीय कर्मचारियों को अलग-अलग समूह में भोजन के लिए आमंत्रित किया जा रहा है

भाजपा में महापौर पद के लिए 15 से अधिक महिला नेताओं की दावेदारी के बीच पार्टी को अब इस बात की चिंता है की टिकट की घोषणा के बाद पार्टी में विरोध और बगावत के स्वर तेजी से ना उभरे इसलिए आप दावेदारों को निजी तौर पर संपर्क कर उनसे आग्रह किया जा रहा है कि वह अपनी दावेदारी वापस ले ले

नगरी प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह के एक धुर  समर्थक माने जाने वाले भाजपा नेता महापौर पद के लिए टिकट की दौड़ में बिछड़ते नजर आ रहे हैं ऐसे में गत दिवस उन्होंने मंत्री के समक्ष अपनी नाराजगी सार्वजनिक रूप से जाहिर कर दी

Read In English I HindiLocal-Bodies-Yearning-for-CMOs-प्रभारी सीएम्ओ-बनकर-मौज-कर-रहें-हैं-लिपिक-लेखपाल

सागर वॉच। 26 सितंबर।
(अवनीश जैन ) / 
बुंदेलखंड के सागर संभाग के छह जिलों में स्थित पचास निकायों में मुख्य नगर पालिका अधिकारी के पद खाली पड़े हैं और प्रभारियों के भरोसे चल  रहे है. आलम यह है कि दमोह नगर पालिका और पथरिया नगर परिषद में तो पिछले चार वर्ष से एक उपयंत्री सीएमओ के प्रभार में .रह चुके हैं तो कहीं पर लिपिक तो कहीं पर लेखापाल प्रभारी सीएमओं बने बैठे है.

    नगरीय प्रशासन एवं विकास तथा आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ठाकुर के गृह जिले की दस नगर पालिकाएं  मुख्या नगर पालिका अधिकारी पदस्थ नहीं  होने के चलते प्रभारियों के भरोसे चल रहीं हैं । जहाँ रहली नगर पालिका में मुख्य लिपिक कम लेखापाल नितिन नारायण पांडे के स्थान पर अजय गुमास्ता राजस्व उप निरीक्षक को प्रभार सौंपा गया है तो वहीँ नगर परिषद शाहपुर में उपयंत्री वीर विक्रम सिंह पौने दो वर्षों से सीएमओं के प्रभार में है।

 Read Also: Say No to Radium Cutter or else Police come

 दमोह जिले का हाल भी कुछ ऐसा ही है, वहां दमोह नगर पालिका में वर्षों से पदस्थ उपयंत्री कपिल खरे 8 नबंवर 2016 से प्रभारी सीएमओ के रूप में काम देख रहे है साथ ही  पथरिया नगर परिषद का भी काम देख रहे है हटा नगर पालिका में भी सुशील अग्रवाल प्रभारी सीएमओ के रूप में हैं 

पन्ना जिले में नगर परिषद अजयगढ़ में लेखापाल, नगर परिषद ककरहटी में सहायक राजस्व निरीक्षक, नगर परिषद अमानगंज और नगर परिषद पवई में राजस्व उपनिरीक्षक नगर पालिका चला रहे हैं 

       Read Also: कामकाज में कसावट लाने कोरोना नियंत्रण केंद्र पहुंचे कलेक्टर

 छतरपुर जिले में नगर पालिका नौगांव में राजस्व निरीक्षक तो नगर पालिका महाराजपुर में राजस्व उपनिरीक्षक सीएमओ के प्रभार में है. नगर परिषद हरपालपुर और गढ़ी मलहरा में सहायक ग्रेड 1 प्रभारी के रूप में काम कर है. नगर परिषद चंदला में राजस्व उपनिरीक्षक तो बारीगढ़ में राजस्व उपनिरीक्षक और राजनगर में सहायक राजस्व अधिकारी प्रभारी बने बैठे है.नगर परिषद खजुराहों में भी लेखापाल लखन तिवारी प्रभारी सीएमओ के रूप में कार्य देख रहे है. नगर परिषद बड़ा मलहरा में मुख्य लिपिक कम लेखापाल साहब बने बैठे हैं 

                     Read Also: After The Election She Will go To 3rd Party

टीकमगढ़ जिले में  घुवारा में राजस्व उपनिरीक्षक, बक्स्वाहा में सहायक ग्रेड 1 प्रभारी बने बैठे है. नगर परिषद कारी में स्वास्थ्य अधिकारी को मुख्य नगर पालिका अधिकारी का प्रभार दे दिया गया है. बड़ा गांव में राजस्व उपनिरीक्षक, खरगापुर में राजस्व उपनिरीक्षक, पलेरा में सहायक ग्रेड 2, जतारा में राजस्व उपनिरीक्षक, लिधौरा खास में सहायक ग्रेड 2, पृथ्वीपुर में राजस्व उपनिरीक्षक, निवाड़ी में राजस्व निरीक्षक, तरीकरचला में राजस्व उपनिरीक्षक और नगर परिषद ओरछा में राजस्व उपनिरीक्षक डेढ़ दो साल से मुख्य नगर पालिका अधिकारी के प्रभार में चल रहे है. बाकी नगर पालिकाओं और नगर परिषदों में लोकसेवा आयोग से चयनित मुख्य नगर पालिका अधिकारी पदस्थ हैं.

                Read Also: Unsung Heroes- Aftaab Pledged to make country clean

    मुख्य नगर पालिका अधिकारी के पद पर पदस्थापना न होने के कारण प्रभारी अधिकारियों की मनमानी आती रहती है. जिसका असर निकायों के विकास कार्यों पर भी पड़ता है और शासन की मंशानुरूप काम भी नहीं हो पाते हैं और निर्माण कार्यों में घटिया सामग्री की शिकायतों के चलते गुणवत्ता पूर्वक कार्य भी पूर्ण नहीं हो पाते है