Articles by "MP Govt"
MP Govt लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

 Committee-To-Probe-Private-Hospiatals-Billing-राज्य-शासन-ने बिलिंग-को-लेकर-निजी-अस्पतालों-पर-नकेल-कसी

सागर वॉच @  मध्यप्रदेश शासन ने निजी अस्पतालों को चेताया है कि कोविड का इलाज करने में बिलिंग उस पैकेज के मुताबिक ही करें जिसकी घोषणा उन्होंने स्वयं सरकार के समझ की हैैं। निजी अस्पतालों के स्वतः घोषित उपचार के पैकेज राज्य शासन के पोर्टल पर मौजूद हैं।

 इस सिलसिले में मुख्य सचिव कार्यालय मंत्रालय भोपाल ने आदेश जारी किया है कि निजी अस्पताल तय मूल्यों के अनुरूप ही मरीजों के लिए बिलिंग करें । इस संबंध में किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर निजी अस्पताल के खिलाफ जांच कर कार्रवाई की जाएगी। राज्य शासन ने इस संबंध में शासन स्तर पर एक समिति गठित की है।

Also Read: महामारी के दौर में उंचे दामों में मेडिकल उपकरण बेचने वाले पुलिस के हाथ चढे़

 कलेक्टर दीपक सिंह ने सागर जिला के निजी अस्पतालों के विरूद्ध बिलिंग के सबध में प्राप्त होने वाली शिकायतो की जांच समिति गठित की है।

समिति में शहरी क्षेत्र हेतु अपर कलेक्टर अखिलेश जैन,की अध्यक्ष अध्यक्षता में गठित समिति में अन्य सदस्य- सी ० एल ० वर्मा , नगर दण्डाधिकारी सागर   सचिव, राकेश अहिरवार, अधीक्षक, भू - अभिलेख सागर को सदस्य नियुक्त किया गया है।

Also Read: Video Viral - मानवाधिकार आयोग ने लिया संज्ञान पुलिस से मांगी रिपोर्ट

समिति में ग्रामीण क्षेत्र के लिए इच्छित गढ़पाले , अपर कलेक्टर विकास एव जिला पंचायत सीईओ सागर अध्यक्ष होंगे। अनुविभागीय अधिकारी ( राजस्व ) सदस्य सचिव एवं तहसीलदार सदस्य होंगे। उक्त आदेश तत्काल प्रभाव से प्रभावशील किया गया है।

Also Read: क्या-वैक्सीन-की-कमी-से-बढ़ा-कोविशील्ड-की-दो-खुराकों-के-बीच-का-अंतर..?


Report @ Somya Samaiya
MP's-First-1000-beds-Oxygen-Ready-Covid-Care-Center-पहला-चरण-शुरू-होगा-25-मई-तक

सागर वॉच @
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केन्द्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने रविवार को साग़र जिले के बीना में बीओआरएल के निकट नवनिर्मित अस्थाई 1000 बिस्तर के अस्थायी कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया और अस्पताल के निर्माण संबंधी बैठक भी ली।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, यह प्रदेश का पहला ऑक्सीजन सप्लाई आधारित अस्थाई अस्पताल है, जहाँ पलंग तक डायरेक्ट ऑक्सीजन पाईप लाईन रहेगी। यह अस्पताल सर्व सुविधायुक्त बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य है कि आने वाले समय में मध्यप्रदेश ऑक्सीजन की उपलब्धता के मामले में भी आत्म-निर्भर बनकर उभरे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमें कोरोना से हर मुक़ाबले के लिए तैयार रहना होगा। इस सिलसिले में बड़े ऑक्सीजन प्लांट्स की स्थापना प्रदेश में की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस दिशा में गेल, आयनॉक्स जैसी संस्थाओं से भी बातचीत जारी है।

Also Read: आयुष्मान कार्ड पर पर निजी अस्पतालों में मुफ्त होगा कोरोना का इलाज

केन्द्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि यहाँ अस्पताल का बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य चल रहा है। बीना रिफाईनरी की इंडस्ट्रियल ऑक्सीजन को मेडिकल ऑक्सीजन में कन्वर्ट कर मरीज़ों के लिए उपयोग में लिया जाएगा। यह एक बड़ा प्रोजेक्ट है जो साग़र, विदिशा, अशोकनगर और गुना सहित आसपास के ज़िलों के कोविड मरीजों के लिए बड़ी सौग़ात साबित होगा।

केंद्रीय मंत्री श्री प्रधान ने कहा कि ऑक्सीजन की उपलब्धता के मामले में केंद्र एवं मध्यप्रदेश शासन लगातार मिलकर कार्य कर रहे हैं। शीघ्र ही मध्यप्रदेश ऑक्सीजन के मामले में आत्म-निर्भर होगा।

Also Read: नयी दवा मरीजों को बाहर से ऑक्सीजन देने की निर्भरता को कम करती है

स्थल निरीक्षण और रोडमेप की समीक्षा

मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं केन्द्रीय मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने अस्थाई अस्पताल स्थल का निरीक्षण किया तथा मौक़े पर ही सम्पूर्ण रोडमेप की समीक्षा भी की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अस्पताल से संबंधित विभिन्न कार्यों हेतु नियुक्त एजेंसी तथा कार्यों की बिंदुवार समीक्षा की। उन्होंने यहाँ ऑक्सीज़न प्लांट, ऑक्सीज़न टेस्टिंग, कंप्रेसर कक्ष के निर्माण, ऑक्सीजन सप्लाई की 800 मीटर लंबी पाइपलाइन, दुर्गापुर से कंप्रेसर की शिफ्टिंग, अतिरिक्त स्टैंडबाय कंप्रेशर का क्रय, बॉटलिंग प्लांट संबंधित कार्यों की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि यहाँ बॉटलिंग प्लांट स्थापित कर अन्य ज़िलों की ऑक्सीजन की आवश्यकता को भी पूरा किया जाएगा।

हवा, पानी, तूफ़ान से भी सुरक्षित होगा कोविड अस्पताल

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भले ही यह एक अस्थायी अस्पताल है, परंतु इसे सर्व सुविधायुक्त तथा हर प्रकार से सुरक्षित अस्पताल बनाया जा रहा है। मौसम के ख़राब होने की स्थिति में भी यह अस्पताल हवा, पानी, तूफ़ान आदि सभी से सुरक्षित रहेगा।

वेस्ट मैनेजमेंट का रखा जाए ख़ास ध्यान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि, अस्पताल से संबंधित सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, मेडिकल वेस्ट, लिक्विड वेस्ट आदि का वैज्ञानिक निपटारा और प्रबंधन किया जाए। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता ज़ाहिर की कि, विद्युत सब स्टेशन का कार्य समय-सीमा के पूर्व ही पूर्ण कर लिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि, अस्थाई अस्पताल में भोजन व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था तथा हाउसकीपिंग सर्विस की बेहतर व्यवस्था हो।

Also Read: Bundelkhand ready to fight against Covid With New Thousand-Bed Hospital

विभिन्न प्रोजेक्ट्स को समय-सीमा के पहले पूरा करने का रखें लक्ष्य

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अस्पताल तक के पहुँचमार्ग, डोम में कांक्रीट फ्लोर, पार्किंग एवं प्रशासकीय क्षेत्र में फ्लोरिंग, नाली एवं अन्य विविध कार्य, मेडिकल गैस पाईपलाईन सिस्टम, फैंसिंग सहित ऑक्सीजन बैकअप और 150 केएलडी के सेप्टिक/एसटीपी का कार्य शीघ्र पूर्ण करें। साथ ही डोम, एक अतिरिक्त डोम, डोम में विद्युत कार्य एवं टॉयलेट, आउटसोर्स स्टॉफ से संबंधित कार्य भी समय-सीमा में पूरा करने का लक्ष्य रखें।

उल्लेखनीय है कि बीना रिफ़ाइनरी द्वारा 2 बार (बीएआर) प्रेशर पर सप्लाई प्रारंभ की जाएगी, जिससे साधारण ऑक्सीजन अस्थायी अस्पताल के बिस्तरों के लिए पर्याप्त होगी। दुर्गापुर से लाए जा रहे 7 बार प्रेशर के कंप्रेशर को स्टेंडबाय प्रेशर के रूप में रखा जाएगा। साथ ही ऑक्सीजन सिलेंडर का इमरजेंसी बैकअप भी रखा जाएगा।

कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने बताया कि, डोम स्ट्रक्चर तथा विद्युतीकरण का कार्य 25 मई तक पूर्ण कर लिया जाएगा। इसी प्रकार जल प्रदाय, सड़क एवं कांक्रीट फ्लोरिंग का कार्य 15 मई तक तथा 200 पॉइंट्स पर ऑक्सीजन पाइप लाइन का निर्माण समय-सीमा में पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि फ़र्नीचर तथा अन्य उपकरणों से संबंधित समस्त क्रय आदेश भी जारी किए जा चुके हैं।

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह, राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, सहकारिता मंत्री श्री अरविंद सिंह भदौरिया, सागर सांसद श्री राज बहादुर सिंह, विधायक श्री महेश राय, श्री गौरव सिरोटिया, पुलिस अधीक्षक श्री अतुल सिंह, अस्थायी अस्पताल के नोडल अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्री नरेंद्र सूर्यवंशी और भारत ओमान रिफाइनरी के वरिष्ठ अधिकारी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Also Read: Top-officials-took-immediate-steps-to-tighten-BMC-Management

Get-Covid-19-Test-Report-Online-मप्र-के-नगरिकों-कोरोना-टेस्ट-के-रपट-मिलेगी-घर-बैठे

सागर वॉच @
मप्र में कोरोना की जांच करने वालों के लिए यह बड़ी राहत देने वाली खबर हैं ।  कोरोना की जांच का नतीजा जाने के उन्हें कहीं नहीं भटकना पड़ेगा बल्कि नतीजा घर बैठे ही पता चल जायेगा   कोविड-19 संबंधित आरटीपीसीआर टेस्ट का परिणाम ऑनलाइन देखा जा सकेगा

Also Read: Covid Care Center- सागर के हर विकासखंड में शुरू होगा-कलेक्टर

नागरिकों के कोविड संबंधित आरटीपीसीआर टेस्ट का परिणाम जानने हेतु मध्यप्रदेश शासन द्वारा ऑनलाइन सुविधा प्रारंभ की गई है। Corona Test Result लिंक पर क्लिक करके यह जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
नागरिक अपना मोबाइल नं (जो सैम्पल देते समय परीक्षण लैब/ सैम्पल संग्रहण केन्द्र को दिया गया है) एवं परीक्षण लैब, आईसीएएमआर पोर्टल से प्राप्त एसआरएफ आईडी की प्रविष्टि कर अपने सैम्पल का परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।


 SagarWatch@
 राज्य में यात्री बसों के सुचारू संचालन के लिए, मध्य प्रदेश सरकार ने आम जनता के हित में और बस ऑपरेटरों की समस्याओं को हल करने के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बस ऑपरेटरों और इस पेशे से जुड़े लोगों की समस्याओं को देखते हुए 01 अप्रैल, 2020 से 31 अगस्त, 2020 तक की अवधि के दौरान यात्री बसों पर बकाया मासिक वाहन कर पर पूरी तरह से छूट दी जाएगी।

इसके साथ ही, यात्री बसों के संचालन को फिर से सामान्य करने के लिए, मासिक मोटर वाहन कर में 50 प्रतिशत की छूट, सितंबर 2020 के महीने के लिए दी गई है और मोटर वाहन कर जमा करने की तिथि 30 सितंबर, 2020 तक बढ़ा दी गई है ।

मुख्यमंत्री के मुताबिक बस ऑपरेटरों और राज्य के लोगों के हित में लिए गए इस निर्णय के साथ, अब पूरी क्षमता के साथ बसें फिर से राज्य में चलेंगी।  एक तरफ, आम जनता परिवहन सुविधा का लाभ उठा सकेगी और दूसरी तरफ, यात्री बसों से जुड़ी नौकरियां फिर से शुरू होंगी।

उल्लेखनीय है  कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम और लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर, लॉकडाउन के कारण 25 मार्च, 2020 से बसों का संचालन बंद कर दिया गया था।

समय-समय पर सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार अनुमतियाँ भी प्रदान की गई हैं। लेकिन व्यावहारिक रूप से बसें सामान्य रूप से संचालित नहीं हो सकीं।

राज्य सरकार द्वारा लिए गए उक्त निर्णय से राज्य के बस ऑपरेटरों की समस्याएं समाप्त हो जाएंगी और अब बसें पूरी क्षमता के साथ आम लोगों की सुविधा के लिए संचालित होने लगेंगी। इस क्रम में, किराया निर्धारण समिति को जिम्मेदारी सौंपकर, पहले से यात्री किराया फिर से तय करने के निर्देश दिए गए हैं।

मप्र में बसों की आवाजाही 5 सितंबर से शुरू होगी। यात्री बसें सरकार की कोविड संबंधित गाइड लाइन का पालन करना शुरू कर देंगी। राज्य में आने वाले दिनों में बस संचालन का बड़े पैमाने पर आयोजन होने की संभावना है। सैनिटाइजर बस स्टैंड पर उपलब्ध होगा, तापमान मापा जाएगा, बिना मास्क के यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी।

मध्यप्रदेश बस ऑनर्स एसोसिएशन के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष संतोष पांडे, कोषाध्यक्ष अतुल दुबे और महासचिव जय कुमार जैन ने मीडिया को बताया कि मध्यप्रदेश बस ऑनर्स एसोसिएशन के कार्यालय से मध्यप्रदेश बस कलेक्टर श्री मनीष सिंह के बस ऑपरेटरों की मांगों के संबंध में पिछले तीन दिनों से। चर्चा चल रही थी।

उन्होंने डीजल के मूल्य में वृद्धि के अनुपात में अपर मुख्य सचिव मिश्रा जी के साथ कल भोपाल में बस ऑपरेटर प्रतिनिधियों की एक बैठक की जानकारी दी।

मध्य प्रदेश बस ऑनर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के उक्त निर्णय को दिल से धन्यवाद दिया। परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, इंदौर कलेक्टर लोगों के प्रति हृदय से आभारी हैं।

इसके अनुसार यात्री बसों का संचालन शुरू किया जाएगा। बस मालिकों का कहना है कि जैसे-जैसे यात्रियों की संख्या बढ़ेगी, वे संबंधित रूट पर शुरू हो जाएंगे।

मध्यप्रदेश बस ऑनर्स एसोसिएशन और राजेश पांडेय, उत्तम सिंग, छुट्टन तिवारी, हनुमत सिंग, साक्षी पांडे, अशोक श्रीवास्तव, विनोद भट्ट, ऋषि राठौर, संतोष जैन, तारिष कुरैशी, सुरेंद तिवारी (देवरी), राजेंद्र सिंह बरकोटी, विमल सिंह , देवेंद्र मिश्रा, मनीष दुबे, कल्लू भैया, पंकज राठौर, इंद्रपाल सिंग, अनिल लखेरा, सुमित समैया, सभी बस ऑपरेटरों सागर ने इसका समर्थन किया है।

सागर-वॉच  समाचार @ वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री जगदीश देवड़ा ने बताया है कि ठेकेदारों द्वारा एमआरपी से अधिक दर पर मदिरा विक्रय करने की कोई शिकायत उपभोक्ता द्वारा किये जाने पर संबंधित ठेकेदार के विरुद्ध जाँच कर कठोर कार्यवाही की जाये।

मंत्री श्री देवड़ा ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना कंट्रोल करने के लिये भारत सरकार द्वारा जारी निर्देशों के तहत मदिरा दुकानें बंद करने के आदेश जारी किये गये थे। साथ ही विभिन्न जिलों में स्थानीय परिस्थितियों के मद्देनजर कलेक्टर्स द्वारा विभिन्न समयों में मदिरा दुकानें बंद करने के आदेश जारी किये गये।